Dard Bhari Shayari in Hindi 160
dard bhari shayari in hindi 160

Dard Bhari Shayari in Hindi 160

Friends, I am going send Dard Bhari Shayari in Hindi 160, Hindi shayari aankhen Shayari 2 line with you today, if you like, do share WhatsApp

बड़ा गजब का हमदर्द है मेरा बात खुशी देने की ही करता है मगर दर्द के सिवा कुछ देता ही नहीं।

तेरे वादे तू ही जाने मेरा तो आज भी वही कहना है जिस दिन साँस टूटेगी उस दिन ही तेरी आस छूटेगी।

लोग जिस्मो से करते है यहाँ प्यार… दिल तो बेचारा इन पैरो के नीचे है यार…

जिंदगी यु ही बहुत काम है, मोहब्बत के लिए, वक़्त गवाने के की जरूरत क्या है।

दिल मेरा अगर रोया न होता हमने भी आंखे को भिगाया न होता, दो पल की हसी में छुपा गमो को ख्वाब को हकीकत में संजोया नहीं होता।

चलो माना तुम्हारी आदत है तड़पान, मगर जरा सोचो अगर कोई मर गया तो?

dard bhari shayari in hindi 160
dard bhari shayari in hindi 160

रात भर जलता रहा ये दिल उसकी याद में समझ नहीं आता दर्द प्यार करने से होता है या याद करने से होता है…

इतनी चाहत के बाद भी तुझे अहसास न हुआ… जरा देख तो ले दिल की जगह पथ्थर तो नहीं…

रिश्ते अगर दिल में हो तो तोड़ने से भी नहीं टुटते, और अगर दिमाग में हो तो जोड़ने से भी नहीं जुड़ता…!!

मोहब्बत की तलाश में निकले हो तुम अरे पागल मोहब्बत खुद तलाश करती है जिसे बर्बाद करना हो।

चाहत थी बेशुमार पर मिलने का वादा न था… प्यार तो उसे भी था, पर हमसे ज्यादा न था।

मेरे दिल के टुकड़े वो हजार कर गयी, मुझे खून से नहला… वो किसी और की होने गयी…!!

Thanks for Reading ( Read more – Gam bhari Shayari )

Leave a Reply

Close Menu
%d bloggers like this: